There was an error in this gadget

Friday, December 28, 2012

बिटिया देश को जगाकर सो गई ..........

बिटिया  देश को जगाकर सो गई
माँ की लाडली हमेशा के लिए खो गई 

युवाओं  ने भी ली है अब अंगड़ाई
तय कर बैठे है की लड़ेंगे हक़ की लड़ाई 

मौत तेरी यह व्यर्थ अब न  जायेगी 
हुक्मरानों से जनता अब हिसाब मांगेगी 

सुधर जाओ समझ जाओ सत्ता के ठेकेदारों
देख के यह हालात  देश अब उठ खड़ा है
युवा देश का अब हालात से लड़ने लगा है

3 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..!
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (30-12-2012) के चर्चा मंच-1102 (बिटिया देश को जगाकर सो गई) पर भी की गई है!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  2. शानदार अभिव्यक्ति,
    जारी रहिये,
    बधाई।

    ReplyDelete