There was an error in this gadget

Thursday, April 23, 2009

क्या हो रहा है ? कुछ ख़बर तो है .............. मेरा देश मेरा वोट ...... न होने दे देश पर चोट

कोई शक नही की हर इन्सान बहुत व्यस्त है इस सामाजिक व्यवस्था में। न जाने कितने ही दबाव से जूझता रहता इन्सान । मेरे दिल से फिर निकली इक बात की इन दबावों के उपरांत भी जरा समय निकले देश के लिए । आज आवश्यकता है , आपके समय की आपके विचारो की जिनके प्रभावों से देश इक नईदिशा में जाने को आतुर है। सही समय पर सही निर्णय लेना जरुरी है और इसके वास्ते आपको इस वोटो के महाकुम्भ में अपनी और अपने मिलने वालो की सहभागिता को सुनिश्चित करना होगा । मेरे दिल है की मानता नही कुछ न कुछ उथल पुथल जो दिल में होती है उसको बयां कर ही डालने का प्रयास मात्र हें मेरा यह लिखना .......

राष्ट्र की चिंता करने वाले राष्ट्रीय विचारधारा से जुड़े उन लोगो का चयन करना हो इस चुनाव में जो तुष्टिकरण से ऊपर , मौके से ऊपर उठकर , राष्ट्रवादी संगटनो से जुड़े हो ..... बाकि इच्छा आपकी वोट आपका , मगर ग़लत लिया निर्णय तो चोट देश पर , उम्मीद की आप सही ही करेंगे अपने वोट का निर्धारण ।
मेरा देश मेरा वोट ...... न होने दे देश पर चोट

Tuesday, April 14, 2009

फ़िर मौसम आया है चुनाव का

लो कर लो बात ! क्या करे दूसरा कोई मुद्दा है ही नही अभी चर्चा करने को - सिर्फ़ इक ही मुद्दा है और वो है चुनाव । किस को चुन्नना है कैसे को सेलेक्ट करे ? बहुत ही गंभीर एवं जटिल है ? फिर भी मत तो डालना ही है , ड्यूटी पुरी कर लेते है डालकर। कोई सोच कोई चिंता नही है न ही इसn द्रष्टि से कही किसी समूह में कई गंभीर चर्चा है ? आख़िर इस उदासीनता का कारण क्या हे? इस उदासीनता के गंभीर परिणाम से आख़िर नुकसान किसको होगा ? यह सवाल अक्सर मेरे दिल को कचोटता है ? आपके दिल की मैं कैसे सकता हूँ , मगर यह तय तय तय तय तय तय तय है की मेरे दिल की बात आपके दिल तक पहुचेंगी जरूर । इक निवेदन की आप सोच समझ कर औरो को भी भी समझा कर राष्ट्र की चिंता करने वालो का चयन करने के इस शुभ अवसर को नही गंवाएंगे ।